Showing posts with label काँगड़ा. Show all posts
Showing posts with label काँगड़ा. Show all posts

Friday, April 19, 2019

Trip to Himani Chamunda


हिमानी चामुण्डा की खोज में



यात्रा दिनांक - 19 अप्रैल 2019

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

    आज की सुबह मेरा यात्रा लक्ष्य हिमानी चामुंडा की ओर था, सुबह सुबह माँ बज्रेश्वरी देवी को प्रणाम करके मैं बाहर रोड पर आ गया और चामुंडा जाने वाली बस का इंतज़ार करने लगा, जब काफी देर तक कोई बस नहीं आई तो मैंने एक बस वाले से चामुंडा जाने वाली बस के बारे में पूछा तो उसने बस स्टैंड की तरफ इशारा करते हुए कहा कि चामुंडा जाने वाली बस तुम्हें वहाँ से मिलेगी, जबकि पिछली बार मैं यहाँ आया था तो हम सभी यहीं से बस में बैठकर चामुंडा गए थे। खैर मैं बस स्टैंड की तरफ चल पड़ा और जल्द ही मुझे चामुंडा जाने वाली बस मिल गई।

Thursday, April 18, 2019

Nagarkot 2019

नगरकोट धाम में एक रात 



यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

   बैजनाथ पपरोला से एक्सप्रेस ट्रेन द्वारा मैं काँगड़ा पहुँचा, चूँकि यह ट्रेन काँगड़ा मंदिर स्टेशन पर नहीं रूकती है इसलिए मैं पहली बार कांगड़ा स्टेशन पर उतरा। आज हमारे मथुरा और आगरा में लोकसभा के चुनाव भी थे, मेरा नाम अभी भी एनरोलमेंट लिस्ट में नहीं था इसलिए इस छुट्टी को मैंने काँगड़ा में आकर मनाया था। मैंने फेसबुक पर वोट देने  सभी मित्रों बधाई दी और उसके बाद कांगड़ा स्टेशन के सामने जाती हुई एक सड़क पर  चलकर मैं नीचे मुख्य सड़क पर पहुँचा। कुछ ही समय बाद यहाँ काँगड़ा शहर जाने वाली बस आई जिससे मैं कांगड़ा मंदिर जाने वाले मुख्य द्वार पर उतर गया। 

Baijnath Temple 2019

बैजनाथ धाम और बिनबा नदी



यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

      पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैं काँगड़ा से बैजनाथ पपरोला तक चलने वाली एकमात्र एक्सप्रेस ट्रेन से बैजनाथ पपरोला स्टेशन पहुँच गया। अब यह ट्रेन शाम को यहाँ से 4:30 बजे पठानकोट के लिए प्रस्थान करेगी इसलिए अभी बैजनाथ में घूमने के लिए मेरे पास पर्याप्त समय था। मैं पहले भी यहाँ 2 या 3 बार आ चुका हूँ और जब आज से 6 साल पहले जब मैं यहाँ आया था तब पिताजी के साथ यहाँ बहने वाली बिनवा नदी में स्नान भी करने गया था। इसलिए आज सबसे मेरा लक्ष्य था इस नदी स्नान करना। बैजनाथ से आगे रेलवे लाइन जोगिन्दर नगर तक जाती है और एक शानदार घुमाव साथ बिनवा नदी को पार करती है।

Saturday, June 22, 2013

माँ छिन्नमस्तिका धाम




माँ छिन्नमस्तिका धाम

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     सुबह करीब दस बजे हम चिंतपूर्णी पहुँच गए, यहाँ चिंतपूर्णी देवी का मंदिर है जिसे छिन्मस्तिका धाम भी कहते हैं, यह ज्वालादेवी से करीब अड़तीस किमी दूर है। बस स्टैंड से उतर कर मंदिर जाने के लिए एक सीधी पक्की सड़क बनी है, मैं यहाँ पहली बार आया हूँ, यहाँ काफी बड़ा बाजार भी है और भक्तों की संख्या मुझे यहाँ सबसे अधिक दिखाई दे रही थी। यहाँ आते ही हमें एक जगह लंगर चलता हुआ मिला, पूड़ी सब्जी के साथ साथ खीर भी थी। हमने सबसे पहले माँ का यह प्रसाद ग्रहण किया और चल दिए देवी माँ के मंदिर की ओर , यहाँ भी मंजू ने लंगर खाने से इनकार कर दिया, न जाने क्यूँ उसे देवी माँ के इस प्रसाद से भी एलर्जी थी।

माँ ज्वालादेवी शक्तिपीठ धाम



माँ ज्वालादेवी शक्तिपीठ धाम

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

    टेड़ा मंदिर से लौटकर मैं पहले होटल पहुंचा और कुछ देर आराम करने के बाद नहा धोकर माँ ज्वालादेवी के दर्शन के लिए चल पड़ा, ज्वाला देवी का मंदिर काफी बड़ा और साफ़ स्वच्छ बना हुआ है, शाम के समय यह और भी रमणीक हो जाता है, हम शाम के समय मंदिर में पहुंचे, और थोड़ी देर मंदिर के सामने खुले फर्श पर बैठे रहे मंदिर खुलने में अभी समय था, फिर भी भक्तों की कोई कमी नहीं थी, लाइन लगाकर खड़े हुए थे, जब मंदिर खुला तो हम सबने देवी माँ के दर्शन किये, दर्शन करने के बाद एक हॉल पड़ता है जिसमे अकबर द्वारा चढ़ाया हुआ सोने का छत्र रखा हुआ है।

Friday, June 21, 2013

टेड़ा मंदिर

यात्रा को शुरू से पढने के लिए यहाँ क्लिक करें 


टेड़ा मंदिर 


        काँगड़ा का किला देखकर हम वापस आये, होटल पर सब तैयार मिले, मैंने जल्दी से होटल का चेकआउट कराया और नगरकोट धाम से ज्वालादेवी जी की ओर प्रस्थान किया। हमें हिमाचल की रोडवेज की एक बस मिल गई और हम ज्वालादेवी की तरफ चल दिए। यहाँ गंगादशहरा के अवसर पर  रास्ते में एक स्थान पर चने और सरवत का मुफ्त वितरण चल रहा था, इसलिए प्रत्येक बस पांच मिनट के लिए रुक रही थी, इसके बाद हम ज्वालादेवी पहुंचे, पहुँच कर होटल में कमरा तलाश किया, बड़े ही महंगे थे, पिछलीबार डेढ़ सौ रुपये में जिस होटल में कमरा मिल गया था आज वो पांच सौ रुपये मांग रहा था। बड़ी मुश्किल से पांच सौ रुपये में दो अलग अलग रूम मिल गए, चौधरी गेस्ट हाउस में।

काँगड़ा दुर्ग




काँगड़ा दुर्ग 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
   
      मंदिर के ठीक सामने से एक रास्ता काँगड़ा के किले के लिए भी जाता है, यहाँ से किला तीन किमी दूर है । मैं, कुमार, बाबा और मंजू चल दिए काँगड़ा के किले को देखने के लिए, शुरुआत में रास्ता चढ़ाई भरा है फिर बाद में एक सड़क आती है जो सीधे पुराने काँगड़ा की ओर गई है और वही पर है काँगड़ा का किला, रास्ता बिलकुल सुनसान था, रास्ते में हमें एकाध गाडी देखने को मिली और एक या दो लोग जिनसे हमने किले की दूरी भी पूछी। मैं चलता ही जा रहा था, वाकी तीनो मेरे काफी पीछे ही रह गए थे, मेरा तेज चलने का कारण था जल्दी वापद भी लौटना, हमें आज ही ज्वालादेवी के लिए भी निकलना था ।

मैक्लोडगंज की ओर



 मैक्लोडगंज की ओर


हिमाचल परिवहन की एक बस 



                 जाने वाले यात्री -  सुधीर उपाध्याय , कुमार भाटिया , सुभाष चंद गर्ग , मंजू  एवं  खुशी । 
 इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     मैंने घड़ी में देखा दोपहर के डेढ़ बजे थे, अचानक मन कर गया कि धर्मशाला और मैक्लोडगंज घूम के आया जाय, कौनसा यहाँ रोज रोज आते हैं, मैंने सभी से पुछा पहले तो कोई राजी नहीं हुआ, मैंने प्लान कैंसिल कर दिया, बाद में कुमार और मंजू का मन आ गया, अनके साथ बाबा और ख़ुशी भी राजी हो गए। सो चल दिए आज एक नई यात्रा पर काँगड़ा से धर्मशाला। धर्मशाला, काँगड़ा से करीब अठारह किमी है ऊपर पहाड़ो में और उससे भी आगे चार किमी ऊपर है मैक्लोडगंज।

Thursday, June 20, 2013

नगरकोट धाम 2013


नगरकोट धाम 2013 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें
   
   बैजनाथ से आखिरी ट्रेन पकड़कर हम शाम तलक काँगड़ा मंदिर स्टेशन पहुंचे, यह नगरकोट धाम का स्टेशन है, यहाँ से नगरकोट मंदिर तीन चार किमी दूर है, स्टेशन से बाहर निकल कर एक नदी पड़ती है जिसपर अंग्रेजों के समय का रस्सी का पुल बना है जो हिलाने पर जोर से हिलता भी है , यहाँ से आगे टेम्पू खड़े मिलते है जो दस रुपये प्रति सवारी के हिसाब से मंदिर के दरवाजे तक छोड़ देते हैं, और यहाँ से बाजार युक्त गलियों में होकर मंदिर तक पहुंचते हैं, यह माँ बज्रेश्वरी देवी का मंदिर है, और एक प्रख्यात शक्तिपीठ धाम है, यह उत्तर प्रदेश की कुलदेवी हैं कहलाती हैं, भक्त यहाँ ऐसे खिचे चले आते हैं जैसे चुम्बक से लोहा खिंचा चला आता है। मंदिर में आने पर एक अलग ही अनुभव सा होता है ।

बैजनाथ धाम में इस बार




बैजनाथ धाम में इस बार 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     जोगिन्दर नगर से हम बैजनाथ की ओर रवाना हुए, जोगिन्दर नगर की ओर आते वक़्त जो उत्साह हमारे अन्दर था अब वो सुस्ती में बदल चल गया, ट्रेन खाली पड़ी हुई थी सभी बैठने वाली सीटों पर लेट कर आ रहे थे, समय भी दोपहर का था और यहाँ गर्मी का तापमान अपने चरमोत्कर्ष पर था। इसीलिए कुमार भी सो गया, परन्तु मुझे ट्रेन में नींद बहुत ही कम आती है, मैं अब यहाँ से हमारी यात्रा लौटने की शुरू हो चुकी थी, और मैं लौटते हुए हिमालय की इन घनी वादियों को बाय बाय कह रहा था ।

Wednesday, June 19, 2013

Chamunda Devi Temple '13




चामुंडा देवी के मंदिर में 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

     ट्रेन से उतरकर सभी ने राहत की सांस ली, मानो ऐसा लगा जाने कितने दिनों बाद धरती पर पैर रखा है। कुमार की बुआ और बहिन तो अपनी चादर बिछाकर लेट गईं और वाकी सब भी ऐसे ही बैठ गए, चामुंडा मार्ग एक छोटा सा स्टेशन है, ट्रेन के जाने के कुछ ही समय बाद स्टेशन बिलकुल खाली हो गया, गर अब स्टेशन पर कोई मुसाफिर बचा तो वो हम ही लोग थे, स्टेशन के ठीक सामने पहाड़ है जिसके नीचे एक छोटी सी नदी बहती है। स्टेशन पर हमें काफी समय हो चुका था अब समय था माँ के दरबार में हाजिरी लगाने का , यह हमारी कांगड़ा यात्रा का पहला पड़ाव स्थल था जहाँ आज रात हमें ठहरना था ।

Tuesday, June 18, 2013

काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा



काँगड़ा वैली पैसेंजर ट्रेन यात्रा 

इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

      पठानकोट से ट्रेन सुबह दस बजे प्रस्थान कर चुकी थी, मैं और कुमार लेड़ीज कोच के दरवाजे पर बैठे हुए थे, कुमार पहली बार नेरो गेज की ट्रेन में बैठा था, गाड़ी की स्पीड और प्रकृति के नज़ारे देखकर उसे काफी प्रशन्नता हो रही थी, मेरे साथ आये सभी लोगों को जहाँ और जैसे जगह मिली घुस गए, ट्रेन में एक भी ऐसी जगह नहीं बची थी जो खाली हो। डलहौजी रोड के बाद ट्रेन कंडवाल स्टेशन पहुंची, यह एक छोटा स्टेशन है यहाँ एक देवी माता का मंदिर भी है जिनका नाम है नागिनी माँ ।

Monday, June 17, 2013

काँगड़ा यात्रा - 2013


   काँगड़ा यात्रा - 2013 

      करीब दो साल से ज्यादा समय हो गया था इसबार बिना काँगड़ा गए हुए, इसलिए आगरा के इस बढ़ते हुए गर्म तापमान को देखकर काँगड़ा जाने का विचार मन में आया, माँ से यात्रा की आज्ञा ली और माँ भी चलने के लिए तैयार हो गईं, बस वैष्णोदेवी जाने से इनकार कर दिया, क्योंकि अब उन्हें अत्यधिक चढ़ाई की जगहों से परेशानी होने लगी थी और वैसे भी पिछले दो साल पहले काँगड़ा यात्रा के दौरान हम वैष्णोदेवी होकर आये थे,
इस बार भी कुमार मेरे साथ था, और हमेशा की तरह इसबार भी बाबा और अम्मा मेरे साथ जाने को तैयार हो गए। मैंने अपना और कल्पना का रिजर्वेशन पहले ही करवा लिए था, पापाजी पास निकलवा लाये थे सो उनका रिजर्वेशन उनके पास पर हो गया, भारतीय रेलवे के पास पर फ्री में रिजर्वेशन हो जाता है ।

Friday, April 16, 2010

बैजनाथ मंदिर और नगरकोट धाम वर्ष 2010


बैजनाथ मंदिर और नगरकोट धाम वर्ष 2010



इस यात्रा की शुरुआत के लिए यहाँ क्लिक करें।

     सुबह एक बार फिर चामुंडा माता के दर्शन करने के पश्चात् मैं, माँ और निधि चामुंडा मार्ग रेलवे स्टेशन की तरफ रवाना हो गए। सुबह सवा आठ बजे एक ट्रेन चामुंडा मार्ग स्टेशन से बैजनाथ पपरोला के लिए जाती है जहाँ बैजनाथ जी का विशाल मंदिर स्थित है।  इस मंदिर के बारे कहाँ जाता है कि यहाँ स्थित शिवलिंग लंका नरेश रावण के द्वारा स्थापित है, रावण के हठ के कारण जब महादेव ना चाहते हुए भी उसकी भक्ति के आगे विवश होगये तब उन्होंने रावण से उसका मनचाहा वर मांगने को कहा तब रावण के शिवजी को कैलाश छोड़कर लंका में निवास करने के लिए अपना वरदान माँगा। 

      शिवजी ने एक शिवलिंग के रूप में परवर्तित होकर रावण के साथ लंका में रहने का वरदान तो दे दिया किन्तु साथ ही उससे यह भी कह दिया कि इस शिवलिंग को जहाँ भी धरती पर रख दोगे यह वहीँ स्थित हो जायेगा। रास्ते में रावण को लघुशंका लगी जिसकारण वह इसे एक गड़रिये के बच्चे  में थमाकर लघुशंका के लिए चला गया। वह बच्चा इस भरी शिवलिंग को ना थम सका और उसने इसे धरती पर रख दिया।  वापस आकर रावण ने इस शिवलिंग को उठाने की बहुत कोशिश की किन्तु वह असफल रहा और आज भी यह शिवलिंग बैजनाथ के नाम से पपरोला में स्थित है।

      सुबह दस बजे हम बैजनाथ पपरोला पहुँच गए और शिवजी के दर्शन करने के पश्चात फिर से रेलवे स्टेशन वापस आ गए। बारह बजे हमारी ट्रेन काँगड़ा के लिए रवाना हो गई। हिमालय की खूबसूरत वादियों को ट्रेन से देखते हुए बार बार यही एहसास होता था कि हम यहीं क्यों नहीं रहते। बार बार दिल यहीं बस जाने को कह रहा था। साढ़े तीन बजे तक हम काँगड़ा मंदिर स्टेशन पहुँच गए।  काँगड़ा वाली देवी माता के मंदिर के लिए यहीं से रास्ता गया है। स्टेशन से बाहर आकर एक नदी पड़ती है जिस पर अंग्रेजों के ज़माने के तार वाला पुल बना हुआ है। यह बाणगंगा नदी कहलाती है। 
      
       इसे पार करके हमने एक ऑटो किया और काँगड़ा मंदिर के प्रवेश द्धार तक पहुंचे। मंदिर के ठीक सामने एक सरकारी सराय है यात्री सदन के नाम से। हमने इस सराय में एक कमरा बुक किया और नहाधोकर शाम को अपनी कुलदेवी माता श्री बज्रेश्वरी देवी जी के दर्शन किये। माना जाता है यह देवी माता सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश की कुलदेवी कहलाती हैं भक्त यहाँ ऐसे खिंचे चले आते हैं जैसे चुम्बक से लोहा खिंचा चला आता है। यहाँ आकर मन को एक अद्भुत शांति का अनुभव होता है, मंदिर प्रांगण में बैठकर ऐसा लगता ही नहीं है कि हम अपने घर से दूर हैं। माँ का आँगन किसी घर से काम नहीं लगता। शाम हुई तो कहने का वक़्त हो चला। रात नौ बजे से मंदिर प्रांगण  में ही बने लंगर भवन में समस्त भक्तों को निशुल्क भोजन दिया जाता है जिसमे दाल चावल प्रमुख होते हैं। 

       खाना खाकर और देवी माता को प्रणाम करके हम वापस अपने कमरे पर आ गए। सुबह उठकर हमने फिर से एक बार माता के दर्शन किये और हम अपने अगले गंतव्य ज्वालाजी मंदिर की तरफ रवाना हो गए। बाहर से बसें निरंतर ज्वालाजी के लिए जाती रहती हैं ऐसी ही एक बस द्वारा हम ज्वाला जी पहुँच गए और माँ ज्वालादेवी जी के भी साक्षात् दर्शन किये। यहाँ पहाड़ की तलहटी में निरंतर ज्वालादेवी जी की ज्योति निरंतर निकलती रहती है।  कहा जाता है यह ज्योति हजारों वर्षों से निरंतर यूँही निकलती रहती है किन्तु कोई भी यह प्रमाण नहीं कर सका की यह किस वजह से है इसीलिए इस पर्वत को ज्वालामुखी पर्वत भी कहते हैं। दूसरे दिन माता के दर्शन करके हम अपने घर की तरफ रवाना हो गए।  

     ज्वालाजी के पास कुछ दूर रानीताल नामक एक स्थान है जहाँ ज्वालामुखी रोड नामक रेलवे स्टेशन है।  शाम को एक ट्रैन यहाँ से पठानकोट के लिए जाती है। इसी ट्रैन से हम भी पठानकोट पहुंचे और यहाँ से ऑटो द्वारा चक्की बैंक स्टेशन। चक्कीबैंक से रात को हिमसागर एक्सप्रेस में हमें आसानी से सीट मिल गई और हम अपने शहर आगरा वापस आ गए। 
  1. जय माता दी 


पालमपुर हिमाचल  रेलवे स्टेशन 

बैजनाथ पपरोला की तरफ 

पपरोला रेलवे स्टेशन 

बैजनाथ जी मंदिर 

बैजनाथ हिमाचल 

बैजनाथ मंदिर, पुरातत्व विभाग के अधीन है। 

बहार से पपरोला स्टेशन 

पपरोला रेलवे प्रांगण 

एक शानदार नजारा 

बैजनाथ पपरोला 

बैजनाथ से चलने को तैयार 

परोर रेलवे स्टेशन 

बाणगंगा नदी में मेरी माँ 

मेरी बहिन भी 

बाणगंगा नदी 

बाणगंगा नदी में मैं भी 

जय माता दी 

पानी बहुत ही ठंडा है 

नदी पार करते हुए मैं 

अंग्रेजों द्वारा बना पुल 


यात्री सदन की रशीद 

नगरकोट मंदिर में मेरी माँ 
नगरकोट नादिर में निधि 












































धन्यवाद 

CHANDERI PART - 3

चंदेरी - एक ऐतिहासिक शहर,  भाग - 3 यात्रा को शुरू से ज़ारी करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये ।     अब हम चंदेरी शहर से बाहर आ चुके...