Showing posts with label मक़बरा. Show all posts
Showing posts with label मक़बरा. Show all posts

Monday, May 14, 2018

Tajbiwi tomb


 इतिहास की मलिका ताज़बीबी और उसका मक़बरा 


   
     ब्रज में ऐतिहासिक धरोहरों की कोई कमी नहीं है। यह पौराणिक तो है ही साथ ही ऐतिहासिक भी है।  यहाँ सदा से ही न सिर्फ हिन्दुओं का वर्चस्व रहा है बल्कि मुसलमानों ने भी ब्रज को वो सम्मान दिया है जो शायद ही किसी अन्य स्थान को मिला हो। हकीकत है कि एकबार जो ब्रजभूमि में आ गया तो वो फिर सारी दुनियादारी को भूलकर बस यहीं का होकर रह जाता है। ब्रजभूमि की धरा पर मंजिलों को तलाश करते हुए आज मैंने उसे तलाश किया जिसने इतिहास में अपनी अमिट छाप छोड़ी परन्तु बदलते वक़्त के साथ इतिहास ने भी उसे अपने आप से दूर कर दिया परन्तु भगवान् कृष्ण की इस पावन धरती पर हर उस सख्श को स्थान मिला है जिसे कहीं कोई स्थान न मिला हो, फिर चाहे वो कोई गरीब हो या फिर राजमहलों में रहने वाला कोई शाही इंसान। 



Sunday, October 22, 2017

SHERSHAH SURI TOMB



शेरशाह सूरी और उसका मक़बरा 



इस यात्रा को शुरू से पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें ।

      बिहार की ऐतिहासिक धरती पर इतिहास को खोजते हुए मैं, इतिहास के महान शासक शेरशाह सूरी तक जा पहुँचा, जिसने अपने शासन काल में भारतीय इतिहास के सबसे बड़े और विशाल साम्राज्य  'मुग़ल साम्राज्य ' को छिन्न भिन्न कर दिया। बाबर द्वारा स्थापित मुग़ल साम्राज्य की जमीं नींव को उखाड़ फेंकने और दिल्ली की गद्दी पर किसी मुग़ल शासक को हटाकर खुद दिल्ली का शासक बनने और मुग़ल वंश को हटाकर सूरी वंश की स्थापना करने का श्रेय महान शासक शेरशाह सूरी को ही जाता है।

Saturday, July 15, 2017

Raskhan Tomb



रसखान समाधि 

     महावन घूमने के बाद रमणरेती की तरफ आगे ही बढ़ा था कि रास्ते में एक बोर्ड लगा दिखाई दिया, और उसी बोर्ड की लोकेशन पर मैं भी चल दिया। आज मेरी गाडी घने जंगलों के बीच से निकलकर उस महान इंसान की समाधि पर आकर रुकी जिनके नाम को हम इतिहास में ही नहीं बल्कि अपनी हिंदी की किताब में भी बचपन से पढ़ते आ रहे थे और वो थे कृष्ण भक्त रसखान। आज यहाँ एकांत में रसखान जी की समाधी देखकर थोड़ा दुःख तो हुआ पर ख़ुशी भी हुई कि आज एक ऐसे भक्त के पास आया हूँ जिसने मुसलमान होते हुए भी भगवन कृष्ण की वो भक्ति पाई जो शायद कोई दूसरा नहीं पा सका। 

CHANDERI PART - 3

चंदेरी - एक ऐतिहासिक शहर,  भाग - 3 यात्रा को शुरू से ज़ारी करने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये ।     अब हम चंदेरी शहर से बाहर आ चुके...